LPG

LPG सब्सिडी क्यों नहीं मिल रही है, आखिर जानिए क्या है राज || LPG subsidy

Spread the love

LPG subsidy क्या आपने ध्यान दिया है कि पिछले तीन, चार महीने से गैस सब्सिडी का पैसा आपके अकाउंट में नहीं आ पा रहा है ,

LPG subsidy
LPG subsidy

हा ये सही है की मई महीने से ही ग्राहकों के खातो में LPG subsidy का पैसा नहीं आ रहा है सरकार ने मई महीने से ही आपको मिलने वाले गैस सब्सिडी को ख़त्म कर दिया है

दरअसल पिछले एक साल से गैस सिलेंडर पर सब्सिडी लगातार कम की गई जिससे सब्सिडी वाले सिलेंडर कि कीमतों में 100 रु तक का इजाफा हुआ और आखिर मई महीने से सब्सिडी जीरो कर दी गई

क्यों बंद की गई गैस सब्सिडी LPG subsidy

LPG गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी में लगातार कमी की गई जिससे सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमतों में काफी उछाल आया वही दूसरी और अन्तराष्ट्रीय बाजार में एलपीजी के दामो में काफी गिरावट आई जिससे सब्सिडी वाले सिलेंडर व् बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमते बराबर हो गई .

अब अगर थोडा बहुत कीमतों में उत्तार चढ़ाव हो रहा है तो वह सब्सिडी वाले सिलेंडर व बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमते बराबर हो रहा है और यही कारण है की सब्सिडी नहीं मिल रही है

LPG subsidy का पूरा गणित समझे

राजधानी दिल्ली में पिछले साल जुलाई में 14.2 KG वाले रसोई गैस सिलेंडर (बिना सब्सिडी वाले) का बाजार मूल्य 637 रु था जो अन्तराष्ट्रीय बाजार में एलपीजी के दामो में आई कमी के कारण घटकर 594 रु हो गया इसके बावजूद इसी दोरान सब्सिडी वाले वाले सिलेंडर 494 से महंगा हो कर 594 का हो गया , इस प्रकार सब्सिडी वाले सिलेंडर व बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर का मूल्य 594 हो गया

अब जब कीमतों में कोई अंतर ही नहीं रहा तो फिर सब्सिडी अपने आप ही ख़त्म हो गई , हा में इतना जरुर बता दू की जो 594 रु की बात की है वह देश के अलग अलग हिसो में अलग अलग हो सकती है जेसे अभी सीकर में इसका वास्तविक मूल्य 611 रु है

यह भी जाने 👇👇

Facebook ने अपना नाम क्यों बदला,

Banking fraud का नया तरीका …

ध्यान दे अगर आप दुकानदार है या फिर आप किसी ऑफिस, मौल, वर्कशॉप के ऑनर है तो अपने शॉप पर अग्निसमन यंत्र यानि आग बुझाने का सिलेंडर जरुर रखे … इसमे सबसे बड़ी प्रोब्लम ये होती है की कहा से ख़रीदे, कैसे ख़रीदे …….तो इसका लिंक दिया गया जहा से आप इसे खरीद सकते हो

Leave a Reply

Your email address will not be published.