प्रकृति बचाओ अभियान

प्रकृति बचाओ अभियान || Plant Trees – Save Natural Mission

Spread the love

Natural Mission ….. आज पूरी दुनिया एक विकट स्थिति से गुजर रही है …बात सिर्फ कोरोना वाइरस पर ही खत्म नहीं हो जाती मौशम का बदलना, मरुस्थल में बर्फ का गिरना , बेमोसम वर्षा व तुफानो का आना …एसी अनेक क्रियाएं जो प्रकृति के बदलते रुख की और संकेत कर रही है Natural Mission

Natural Mission
Natural Mission

प्रकृतिपर किये गए मानव द्वारा अत्याचार का ही नतीजा है की माज मनुष्य चार दिवारी में केद होकर रह गया है. पिछले कई वर्षो से विकाश के नाम पर बेसुमार जंगलो कि कटाई. जंगली जानवरों का शिकार, अत्यधिक खनिज पदार्थो का खनन इत्यादि की मनुष्य ने सारी हदे पार कर दी
कोरोना वाइरस की उत्पति चीन के जिस वुहान शहर से निकला वहां की स्थिति तो बहुत ही खराब. वहां जंगली व पालतू जानवरो पर जिस तरह से अमानवीय अत्याचार होता है उसे देखकर लगता भी नहीं की मानवता कही बची है.औऱ बात सिर्फ चीन पर ही ख़त्म नहीं हो जाती. यही स्थिति दुनियाभर की है

PPF के खाते की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

प्रकृति बचाओ अभियान || Natural Mission

इसी को ध्यान में रखते हुये 5दिसंबर, विश्वपर्यावरण दिवस पर सिर्फ एक पौधे के साथ इस मुहीम की सुरुवात की, जो धीरे धीरे आगे बढ़ि औऱ मात्र 10 ही दिन हजारों पौधे लगाये गये.

Natural Mission अभियान इस मुहीम का उदेश्य ऐसे लोगो को जोड़ना हैं जो अपने जन्मदिन या वर्षगांठ पर हजारों का खर्च करते है, अगर वो इस खर्च को प्रकृति की औऱ परिवर्तित करते है तो काफ़ी बदलाव लाया जा सकता है लेकिन इसको एक क्षेत्र से बाहर निकालकर हर जगह, हर एक व्यक्ति व हर इलाके से जोड़ने की जरुरत है. यह एक ऐसी मुहीम है जिसको सैकड़ो लोगो ने अपनाया तथा अपने जन्मदिन पर गांव, सड़क, पॉवरहाउस व गोशाला जैसि जगहों पर पर पेड़ पौधे लगाये.

Natural Mission अभियान प्रकृति को बचाने के लिये लिये एक युद्ध स्तर पर कार्य करने की जरुरत है वरना आने वाला कल औऱ भी ज्यादा भयंकर होगा. अगर इस पर अभी ध्यान दिया जाये औऱ सभी लोग अपनी अपनी जिम्मेदारी समझते हुये प्रकृति के प्रति निष्ठा व सकारात्मकता के साथ काम करें तो अभी भी इसमे बदलाव लाया जा सकता है, औऱ हा कई ऐसी गांव या शहर है जहा के लोगो ने ये कर के भी दिखाया है. तो आइये हम सब मिलकर थोड़ा सा आगे बढ़ते है प्रकृति को बचाते है

Natural Mission || प्रकृति बचाने के लिये क्या क्या करें

बड़े सर, जीवन यात्रा

  • ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाये जरुरी नहीं की आप गार्डन ही बनवाओ, आप को जहा भी जगह मिले वही पेड़ लगाने चाहिये. आप अपने खेत, गार्डन, खाली प्लॉट, बालकनी या फिर घर की छत पर भी गमले वाले पौधे लगा सकते हो
  • पेड़ पौधे के बाद सबसे ज्यादा असर जंगली या आवारा जानवरो पर पड़ा है, कई तो ऐसी प्रजातिया है जिनको मानव ने अपनी पैसो की भूक में खत्म ही कर दिया. माना की मनुष्य की आभार भुत आवस्यकता के लिये पैसे कमाना जरुरी है पर मनुष्य उस पैसो का करेगा भी क्या जब वो रहेगा ही नहीं.
  • इसलिये जानवरो को बचाना जरुरी है इसी के साथ आवारा जानवर भी एक बड़ी समस्या है जिनसे हर साल हजारों एक्सीडेंट होते है उनको भी प्रकृति बचाओ अभियान से जोड़कर किसी सुरक्षित जगह रखते है तो काफ़ी फायदे मंद होगा.
  • एक औऱ समस्या है जो बढ़ती ही जा रही है प्लास्टिक, इसको भी जितना जल्दी हो बिलकुल खत्म करने की जरूरत है जिस प्लास्टिक का प्रयोग मनुष्य अपने दैनिक कार्यों व सामान की पेकिंग में करता है वो कचरा बनकर आगामी कई सालो तक प्रकृति पर बोझ बन जाती है इससे हर साल कई लाखो समुंदरी जानवर भी मर जाते है जिससे प्रकृति का नेचुरल संतुलन बिगड़ रहा है
  • एक औऱ अच्छी आदत है जैसे अगर अपनाया जाये तो ना केवल प्रकृति को सुद्ध रख सकते है बल्कि इस महगाई भर वक्त में अपने बजट को भी बनाकर रखा जा सकता है… वो है अगर आपको कोई ऐसी चीज खरीदनी है जो कम समय के लिये चाहिए औऱ आपके दोस्तों के पास उपलब्ध होतो, उसे उधार लेले

अग्निसमन यंत्र यहाँ से ख़रीदे

Fire Fighting Fquipment आग बुझाने का सिलेंडर कैसे ख़रीदे

Thanks for Visit

Leave a Reply

Your email address will not be published.