जनसंख्या वृद्धि,समस्या और समाधान || Population Growth, Problems and Solutions

Spread the love

Population Growth ,समस्या और समाधान भारत की जनसंख्या विश्व की कुल जनसंख्या की लगभग 18 प्रतिशत है और भारत जनसंख्या की दृष्टि से चीन के बाद सबसे बड़ा देश है जबकि क्षेत्रफल के हिसाब से भारत दुनिया का सातवां देश है।

यानी क्षेत्रफल के अनुपात में Population Growth अधिक है। जिसके कारण से देश को चिकित्सा सुविधाओं की कमी, रोजगार की कमी, गरीबी, बिजली पानी की कमी सहित बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यदि यह Population Growth इसी तरह जारी रही तो आने वाले समय में सरकारें कुछ भी कर ले परंतु समस्याओं का समाधान नहीं हो पायेगा क्योंकि कुछ संसाधन प्राकृतिक है उ

नको किसी भी हालात में बढाया नहीं जा सकता है। इसलिए देश की लगभग समस्याओं का समाधान जनसंख्या नियंत्रण से ही संभव है। इसलिए वर्तमान समय की आवश्यकता व भविष्य के दूरगामी परिणाम को ध्यान में रखते हुए सरकार को जनसंख्या नियंत्रण पर कठोर कानून बनाकर लोगों में जन-जागरूकता का काम करना चाहिए। यदि आने वाले समय में जनसंख्या पर नियंत्रण हो जायेगा तो अधिकतर समस्याओं का समाधान भी हो जायेगा।

Population Growth
Population Growth

Population Growth जनसंख्या वृद्धि के कारण

  1. पुत्र जन्म की लालसा- बहुत सारे लोग शुरूआती दौर में पुत्रियों का जन्म होने पर पुत्र मोह की लालसा में परिवार नियोजन नहीं अपनाते।
  2. कुछ लोगों में यह अंधविश्वास है कि हर व्यक्ति अपना भाग्य लेकर आता है। इस अंधविश्वास के कारण जनसंख्या वृद्धि को बढ़ावा मिलता है।
  3. अशिक्षा- शिक्षा के अभाव में जागरूकता नहीं आती है और जागरूकता नहीं होने के कारण लोग वृद्धि के नियंत्रण की तरफ ध्यान नहीं देते हैं।
  4. परिवार नियोजन के साधनों के प्रति कुछ लोगों में नकारात्मक भाव भी जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करने में बाधक बनते हैं।

आप के WhatsApp पर भी आ रहा है ये Message तो हो जाओ सावधान

Population Growth दुष्प्रभाव

  1. जनसंख्या वृद्धि से सीमित संसाधनों पर दबाव बढ़ता है जिसके कारण संसाधनों की कमी हो जाती है।
  2. बेरोजगारी, गरीबी सहित अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
  3. जनसंख्या वृद्धि चिकित्सा सेवाओं, शिक्षा तथा विकास के लिए एक बहुत बड़ी बाधा का काम करती है।
  4. इसके कारण पर्यावरण प्रदूषण, प्रकृति का अति दोहन होता है जिसके कारण पारिस्थितिकी संतुलन को बनाये रखने में समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
  5. जनसंख्या वृद्धि के कारण अधिक जनसंख्या के लिए आवास व कृषि के लिए अधिक जगह की आवश्यकता होती है जिसके कारण वनों, चारागाहो की भूमि को काम में लेना पड़ता है जिसके कारण वन्य जीवों व वनस्पति को नुकसान होता है जिससे पारिस्थितिकी संतुलन को बिगड जाता है।

Population Growth रोकने के उपाय

  1. समाज में पुत्र व पुत्री के प्रति भेदभाव की नकारात्मक नीति का त्याग करके दोनों को एक समान समझने पर ध्यान देना होगा।
  2. समाज में शिक्षा व जागरूकता के माध्यम से जनसंख्या वृद्धि के दुष्प्रभावों व जनसंख्या नियंत्रण की आवश्यकता के बारे में लोगों में प्रचार प्रसार करना होगा।
  3. सरकारों को जनसंख्या वृद्धि में रोकथाम के लिए पूरे देश के लिए एक कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाना होगा।
  4. सरकारी तंत्र व जागरूक लोगों को समाज में परिवार नियोजन के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना होगा।

यदि आने वाले समय में इस समस्या को गंभीरता से लेकर इस जनसंख्या वृद्धि के नियंत्रण पर विचार करेंगे तो समाज में एक नयी जागृति आयेगी और इसका समाधान भी हो पायेगा।

ध्यान दे अगर आप दुकानदार है या फिर आप किसी ऑफिस, मौल, वर्कशॉप के ऑनर है तो अपने शॉप पर अग्निसमन यंत्र यानि आग बुझाने का सिलेंडर जरुर रखे … इसमे सबसे बड़ी प्रोब्लम ये होती है की कहा से ख़रीदे, कैसे ख़रीदे 

✍️
सुरेन्द्र सिंह भावरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *